Sunday 8 January 2012

कुंड़लिया ----- दिलबाग विर्क

कपड़े ऐसे पहनते, बाहर झांके अंग।
कैसे आज रिवाज हैं, कैसा है ये ढंग।।
कैसा है ये ढंग, बढ़ावा देते खुद हम।
ले नवयुग की आड़, भरें नूतनता का दम।।
देखो करके ध्यान, बढ़े हैं इससे लफड़े।
लगता है वो सभ्य, शिष्ट हों जिसके कपड़े।।
* * * * *
नफ़रत बढ़ती जा रही, खत्म हुआ है प्यार।
रिश्ते-नातों पर यहाँ, हावी है व्यापार।।
हावी है व्यापार, देखते हैं बस मतलब।
हो जब मुश्किल वक्त, काम आया कोई कब?
सदगुण सारे छोड़, बना ली कैसी फितरत।
अपनाए गुण आज, स्वार्थ, ईर्ष्या औ' नफरत।।
* * * * *

12 comments:

  1. सुन्दर कुण्डलियाँ ||

    ReplyDelete
  2. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 09-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  3. कपड़े ऐसे पहनते , बाहर झांके बदन ।
    कैसे आज रिवाज हैं , ये कैसा है चलन ।।
    ये कैसा है चलन , बढ़ावा देते खुद हम ।
    ले नवयुग की आड़ , भरें नूतनता का दम ।।
    देखो करके ध्यान , बढ़े हैं इससे लफड़े ।
    लगता है वो सभ्य , शिष्ट हों जिसके कपड़े ।।.....
    आजकल की नारी..पहले सिर्फ परदे पर ही दिखाई देते थे ..परन्तु अब आपके आस पड़ोस में भी ..
    काफी हद तक अभिभावक ही ज़िम्मेदार हैं..
    बहुत अच्छी कुण्डलियाँ..

    ReplyDelete
  4. नफ़रत बढ़ती जा रही , खत्म हुआ है प्यार ।
    रिश्ते - नातों पर यहाँ , हावी है व्यापार ।।
    हावी है व्यापार , देखते हैं बस मतलब ।
    हो जब मुश्किल वक्त , काम आया कोई कब ?
    सदगुण सारे छोड़ , बना ली कैसी फितरत ।
    अपनाए गुण आज , स्वार्थ , ईर्ष्या औ' नफरत ।।

    bhai Virk ji apki kundaliiyon ko Besuram pr padhane ko mila kya kahun ...bs ak hi shabd lajabab.

    ReplyDelete
  5. सभी कुण्डलियाँ बहुत बढ़िया रची हैं!

    ReplyDelete
  6. दोनों कुंडलिया छंद खूबसूरत....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  7. bahut achchi va saarthak,vyangaatmak kundliyan.

    ReplyDelete
  8. कटाक्ष के साथ खूबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. yahi aajkal fashion ban pada hai..
    bahut badiya sarthak prastuti..

    ReplyDelete
  10. आज का सच यही है... बहुत सुंदर एवं सार्थक प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  11. देखो करके ध्यान, बढ़े हैं इससे लफड़े।
    लगता है वो सभ्य, शिष्ट हों जिसके कपड़े।।
    बहुत खूब .

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...