Sunday 22 January 2012

मौसमे -चुनाव

इस मौसमे -चुनाव में , चलें हैं दाव-पेंच |
एक दूसरे की सभी , टांग रहे हैं खेंच ||
टांग रहे हैं खेंच , शरीफ खुद को बताते |
विरोधी की सदैव , हैं बुराइयां दिखाते ||
पाना चाहें वोट , रहें द्वारों पर सिर घिस |
नेता सारे आज , पूजने बैठे उस - इस ||

* * * * *

8 comments:

  1. राजनीति है ..
    देखना है हम अपना कीमती वोते किसे देते हैं..
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 23-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  3. बढ़िया कुंडलिया, 13-11 और 11-13 की सुंदर बंदिश.वाह !!!!

    ReplyDelete
  4. बड़ा सटीक कटाक्ष .हिंदी विजेट के लिए आभार .

    ReplyDelete
  5. बहुत ही शानदार एवं सटीक कटाक्ष ....

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...