Tuesday 24 January 2012

लगता है चुनाव आ गया ...


क्या बताएं आपको, मेरे पास कुछ कहने के लिए वाकई शब्द नहीं है। मैं नेताओं  को छूत की ऐसी बीमारी मानता हूं, जिसका कोई इलाज ही नहीं है, लेकिन इस लाइलाज बीमारी को खत्म करने को लेकर कोई गंभीर नहीं है। मुझे एक कहानी याद आ रही है। आप सब जानते हैं कि भगवान शिव बिल्कुल भोले बाबा हैं, कोई भी आकर श्रद्धा से दो फूल चढ़ा गया तो उसकी बातें भगवान शिव ने ना सिर्फ सुनीं, बल्कि उसकी समस्याओं का एक झटके में समाधान भी कर दिया।
एक बार मंदिर में शिवलिंग के ऊपर लगे, सोने के घंटे को उतारने के लिए एक चोर मंदिर के भीतर  घुस आया। वो इस घंटे को उतारने की कोशिश कर रहा था, लेकिन उसका हाथ वहां तक पहुंच नहीं पा रहा था, इस पर चोर शिवलिंग के ऊपर खडा होकर घंटा उतारने लगा। क्या बात भगवान खुश हो गए और चोर के सामने प्रगट भी हो गए। भगवान ने कहा कि यहां तो तमाम भक्त आते  हैं, मेरे ऊपर महज दो फूल चढाकर चले जाते हैं, लेकिन तुमने तो खुद को ही मेरे ऊपर चढा दिया। बताओ मैं तुम्हें क्या वरदान दूं।

ऐसा ही कुछ दिखाई दे रहा है उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनाव में। नेताओं का क्या रूप दिखाई दे रहा है, बेचारे सुबह से ही हांथ जोड़े जोडे़ थक जा रहे हैं, फिर भी  हाथ  नीचे नहीं करते। उन्हें लगता है कि ना जाने कौन सा मतदाता बेवजह नाराज हो जाए। एक नेता से थोड़ी यारी दोस्ती है तो उन्होंने बताया कि भाई श्रीवास्तव जी सुबह से हाथ जोड़े जोड़े ये हालत हो जाती  है कि रात में गरम पानी से हाथ सेंकना पड़ता है। मैने कहा कि डाक्टर ने बताया है आपको नेतागिरी करने के लिए, क्यों नहीं सुकून ईमानदारी की रोटी खाने की कोशिश कर रहे हैं। कहने लगे श्रीवास्तव जी सच तो यही है कि डाक्टर ने नहीं कहा था कि नेतागिरी करें, लेकिन अब डाक्टरों का कहना है कि नेतागिरी छोड़ी तो मैं ज्यादा दिन जिंदा नहीं रह पाऊंगा।

बहरहाल इस वक्त नेताओं का हाल देखने लायक हैउनकी चोरी, मक्कारी, बेशर्मी, बेईमानी कुछ भी उनके चेहरे से नहीं पढ़ा जा सकता। सभी नेता कोशिश कर रहे हैं कि उनका कुर्ता दूसरे के कुर्ते से ज्यादा सफेद दिखाई दे। आज उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में आकर हैरान हो गया। बेचारा राहुल अपनी  और पार्टी की साख को मजबूत करने के लिए दलितों के यहां रोटी खाने के लिए हाथ फैलाए घूम रहा है और उनकी पार्टी के ही दूसरे नेता उसके सपने को चकनाचूर करने में लगे हैं। इस पूरे इलाके में बेनी प्रसाद वर्मा का प्रभाव रहा है, लेकिन ये प्रभाव अभी भी बना हुआ है, इस बात को दावे से नहीं कहा जा सकता। लेकिन कांग्रेस ने बेनी को खुश करने के लिए उनके बेटे से लेकर उनके कई और चेले चापड़ को उम्मीदवार बना दिया। कहा तो यहां तक जा रहा है कि बेचारे पूर्व आईएएस कांग्रेस सांसद पीएल  पुनिया  भी  चाहते थे कि दो एक टिकट उनके करीबियों को भी मिल जाए, पर अपने करीबियों को टिकट दिलवा पाने में कामयाब नहीं हो पाए। यही वजह है कि उनका बाराबंकी प्रेम लगभग खत्म सा हो गया है। बातचीत में तमाम  कांग्रेसी  भले ये कहतें नजर आएं कि कांग्रेस इस बार बेहतर प्रदर्शन करेगी, पर ये शिकायत आम है कि कांग्रेस को यहां सबसे बड़ा खतरा कांग्रेसियों से ही है।

बहरहाल बाराबंकी में हमारा अनुभव बहुत खराब है। ये सीट बहुजन समाज पार्टी की है, पार्टी ने दोबारा उसी विधायक को टिकट दिया है, जो पहले विधायक रहे हैं। बिधायक की हालत ये है जमीन कब्जाने से लेकर तमाम गंभीर आरोपों से वो घिर पड़े हैं। बाराबंकी में 20 घंटे के प्रवास में लोगों की नब्ज टटोलना थोडा मुश्किल है, पर मैने महसूस किया है कि लोगों के पास विकल्प कम हैं। यहां इस गुंडे और उस गुंडे में टक्कर है, जो गुंडा मतदान के दिन बेहतर प्रदर्शन करेगा, उसे ही कामयाबी मिल जाएगी। जिले की सभी विधानसभा सीटों पर नजर डालें तो हम देखते हैं कि एक भी ऐसा उम्मीदवार नहीं है, जिसके लिए मैं कह सकूं कि ये उम्मीदवार बेहतर है, इसे आप वोट कर सकते हैं। सच कहूं  तो हालत ये है कि जितने कान्फीडेंस से सच बात नहीं   कह पाते ये नेता उससे दोगुने कान्फीडेंस से झूठ बोल रहे हैं। सच कहूं मेरा मानना रहा है कि मताधिकार का प्रयोग जरूर करना चाहिए, लेकिन जिस तरह के उम्मीदवार हैं, मैं  कह सकता हूं कि अगर आपको कोई जरूरी काम निपटाना है तो उसे  प्राथमिकता दें, ये चुनाव है, हर पांच साल पर यूं ही होता रहेगा। 


5 comments:

  1. बहुत सही लिखा है
    आशा

    ReplyDelete
  2. काश! निगेटिव वोट का विकल्प हो जाता भारत में तो नेता भी जान जाते मतदान क्या होता है...बहुत सुन्दर लिखा है आपने

    ReplyDelete
    Replies
    1. चलो भाई |
      आभार ||
      अब तो मेरी विधानसभा रुदौली फ़ैजाबाद में चली गई है |
      यहाँ तक की पतरंगा स्टेसन भी फ़ैजाबाद जिले का हो गया -
      अच्छा लगा
      बाराबंकी का विवरण देखकर --

      Delete
  3. आपकी इस महत्त्वपूर्ण प्रविष्ट को ‘जागरण जंक्शन डॉट कॉम’पर लिंक किया जा रहा है

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...