Saturday 7 January 2012

बेसुरा रविकर

गाफिल की आज्ञा भला, कैसे देता टाल | 
प्रस्तुत बे-सिर पैर की, बे-सुर भरूँ बवाल || 
चल दल-दल पर चल |
बदल बदल दल चल ||
 File:African elephant warning raised trunk.jpg
चाची ने थप्पड़ जड़ा,  ताऊ के घर बैठ |
चरबी चढ़ती बदन पर, चला करोड़ों ऐंठ |
चला करोड़ों ऐंठ, उमा-योगी का करिहैं |
जाति-सभा में पैठ, कमल कीचड़ मा सरिहै |
चूस-चास कर खून, दाँव जो चले पिशाची |
करिहै का कानून, सँभल के रहना चाची ||
खल जन-जन-मन खल |
छल खल-दल  बन छल ||
Samajwadi Party Flag.jpg
गन्ना की मिल में पिरे, स्वाभिमान जन-रोष |
अंचल पर गहरी पकड़, होय सदा जय घोष |
होय सदा जय घोष, करे जो मोहन प्यारे |
लगे भयंकर दोष, जाँय बेमतलब मारे |
लोकतंत्र की खोट,  पकड़ ना पाते अन्ना |
बाहुबली पर चोट, पेरता जाये गन्ना ||

6 comments:

लिखिए अपनी भाषा में

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...