Sunday 5 February 2012

बना है भीड़तन्त्र

1.

मुद्दों को हम भुला दें , डालें जब भी वोट |
लोकतंत्र में फिर सभी , निकालते हैं खोट ||
निकालते हैं खोट , भूलकर अपनी गलती |
पछताते उस वक्त , चोट जब गहरी लगती ||
जब भी डालो वोट, जाति-धर्म सब भुला दो |
कहे विर्क कविराय , मुख्य मानों मुद्दों को ||

2.

उठती न बात देश की , हो मुद्दों की हार ।
जाति - धर्म जैसे कई, उगते  खरपतवार ।।
उगते खरपतवार, वोट के दिन जब आते ।
यूं रहते हैं गौण , इस वक्त रंग दिखाते ।।
लोकतंत्र की साख , इसी कारण है गिरती 
बना है भीड़तन्त्र, ऊँगली इस पर उठती ।।

-------- दिलबाग विर्क 

* * * * *

9 comments:

  1. देखते हैं कैसी सरकार आती है ,कितने लोग सूझ बूझ के साथ निर्णय लेते हैं..
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  2. आज नहीं चेते तो कल फिर पछताएँगे,
    खिसियानी बिल्ली के माफ़िक हो जाएँगे।
    फिर-
    गाड़ के तम्बू रामदेव-अन्ना बोलेंगे,
    उनके पीछे पूँछ हिलाते हम डोलेंगे।

    बनी हुई है ऐसी ही कुछ फ़ितरत अपनी,
    'मूरख हृदय न चेत' सिखाओ चाहे जितनी।

    वाह भाई साहब! बहुत ख़ूब

    ReplyDelete
  3. कल 06/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. वाह!!!!!बहुत सुंदर कुंडलियाँ ,अच्छी रचना

    नई रचना ...काव्यान्जलि ...: बोतल का दूध...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 06-02-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब ....लाजवाब प्रस्तुति

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...