Saturday 3 March 2012

रूठ जाये ना गोरी--रविकर

 दोहे 
शिशिर जाय सिहराय के, आये कन्त बसन्त ।
अंग-अंग घूमे विकल, सेवक स्वामी सन्त ।

मादक अमराई मुकुल, बढ़ी आम की चोप ।
अंग-अंग हों तरबतर, गोप गोपियाँ ओप ।।

जड़-चेतन बौरा रहे, खोरी के दो छोर ।
पी पी पगली पीवरी, देती बाँह मरोर ।।

सर्षप पी ली मालती, ली ली लक्त लसोड़ ।
कृष्ण-नाग हित नाचती, सके लाल-सा गोड़ ।।

ओ री हो री होरियां, चौराहों पर साज ।
ताकें गोरी छोरियां, अघी अभय अंदाज ।


कुंडली 

गोरी कोरी क्यूँ रहे, होरी का त्यौहार ।
छोरा छोरी दे कसम, ठुकराए इसरार ।

ठुकराए इसरार, छबीले का यह दुखड़ा ।
फिर पाया न पार, रँगा न गोरी मुखड़ा ।

लेकर रंग पलाश,  करूँ जो जोरा-जोरी ।
डोरी तोड़ तड़ाक,  रूठ जाये ना गोरी ।।

14 comments:

  1. बहुत ही बढ़िया रचना है....बेहतरीन अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  2. होली सब शिकवे गिले,भूले सभी मलाल!
    होली पर हम सब मिले खेले खूब गुलाल!!

    सुंदर बेहतरीन प्रस्तुति,...

    NEW POST...फिर से आई होली...

    ReplyDelete
  3. होली है होलो हुलस, हाजिर हफ्ता-हाट ।

    चर्चित चर्चा-मंच पर, रविकर जोहे बाट ।


    रविवारीय चर्चा-मंच

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  5. बहूत हि बढीया सर ,,
    लाजवाब
    ***** हैप्पी होली ****

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर दोहे और छंद|
    होली पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    रंगों के त्यौहार होलिकोत्सव की अग्रिम शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. जड़-चेतन बौरा रहे, खोरी के दो छोर ।
    पी पी पगली पीवरी, देती बाँह मरोर ।।
    बेहतरीन प्रस्तुति .होली मुबारक .

    ReplyDelete
  9. होली के पावन त्यौहार के उपलक्ष पर बढ़िया प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर रचना होली की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  11. आभार आप सब का ||

    दिनेश की टिप्पणी : आपका लिंक
    dineshkidillagi.blogspot.com
    होली है होलो हुलस, हुल्लड़ हुन हुल्लास।
    कामयाब काया किलक, होय पूर्ण सब आस ।।

    ReplyDelete
  12. शायद आपकी इस प्रविष्टी की चर्चाआज बुधवार के चर्चा मंच पर भी हो!
    सूचनार्थ

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...