Saturday, 2 June, 2012

पर यह मोहन कौन, नचाये जिसको सुतली-


 छप्पय 
हुवे हजारों साल, डाल पीताम्बर आये ।
कुरू-क्षेत्र में जाय, महाभारत लड़वाए ।  
हुवे डेढ़ सौ साल, आय मोहन अधनंगे ।
सत्य अहिंसा ढाल, भगाए धूर्त लफंगे ।
अभी आठ-नौ साल में, लौट मन-मोहन आया ।
अर्थ व्यर्थ कब का हुआ, रोज पब्लिक  लुटवाया ।।

पर यह मोहन कौन-

Mahatma Gandhi’s glasses fetch £41k at auction
पुतली की ज्योति प्रखर, सोया यमुना तीर ।
सत्य-अहिंसा देश हित, अर्पित किया शरीर ।
अर्पित किया शरीर, यशोदा माँ  का मोहन ।
कुरुक्षेत्र का युद्ध, करे गीता  सा  प्रवचन ।
 पर यह मोहन कौन, नचाये जिसको सुतली ।
कौन नचावन-हार,  बना नाचे कठपुतली ।।

Kathputli, Indian String Puppetry

4 comments:

  1. सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,,,,,,

    RECENT POST .... काव्यान्जलि ...: अकेलापन,,,,,

    ReplyDelete
  2. वाह...बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. अभी आठ-नौ साल में, लौट मन-मोहन आया ।
    अर्थ व्यर्थ कब का हुआ, रोज पब्लिक लुटवाया ।।
    पर यह मोहन कौन-
    दोहे के आगे दोहा .गाडी के आगे घोड़ा ,मोहन के आगे ,सोनिया मायनों (मैनो )
    बढ़िया व्यंग्य विनोद चिंतन परक धारदार प्रस्तुति रविकर जी की ...
    .कृपया यहाँ भी पधारें -
    वैकल्पिक रोगोपचार का ज़रिया बनेगी डार्क चोकलेट
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/06/blog-post_03.html और यहाँ भी -
    साधन भी प्रस्तुत कर रहा है बाज़ार जीरो साइज़ हो जाने के .
    गत साठ सालों में छ: इंच बढ़ गया है महिलाओं का कटि प्रदेश (waistline),कमर का घेरा
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    लीवर डेमेज की वजह बन रही है पैरासीटामोल (acetaminophen)की ओवर डोज़
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    इस साधारण से उपाय को अपनाइए मोटापा घटाइए ram ram bhai
    रविवार, 3 जून 2012
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    ReplyDelete
  4. अति सुंदर !

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...