Monday, 4 June, 2012

       .....पतरी के चाटे ?    ( छंद....अवधी पंचागुर)


फुलिहैं - फरिहैं    आम ,    इनका  के   काटे ?
पुलिस कै बदले काम, त   उल्टा के   डाटे ?
नेकनाम-बदनाम     इ    अंतर    के    पाटे ?
सब नेता बनिहैं राम, तौ   चांदी  के काटे ?
गे कुकुरै चारिव धाम, तौ पतरी के चाटे ?

3 comments:

लिखिए अपनी भाषा में

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...